बिजली का आविष्कार किसने किया

दोस्तों आज हम जानेंगे कि बिजली का आविष्कार किसने किया और कैसे किया एवं बिजली से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण बातो को बिस्तार से जानेगे | एक बात आपको बता दें कि बिजली का आविष्कार नहीं बल्कि खोज हुई थी |

खोज और अविष्कार में अंतर

  • अगर कोई चीज प्रकृति में पहले से मौजूद है और उसे कोई इंसान ने खोज निकाला तो हम कहेंगे कि इसकी खोज हुई है |
  • अगर कोई चीज प्रकृति में पहले से मौजूद नहीं है और उसे किसी इंसान द्वारा बनाया गया है तो हम कहेंगे कि उसका अविष्कार हुआ है |

 

बिजली की प्रकृति में पहले से मौजूद थी इसलिए हम कहते हैं कि खोज हुई है लेकिन अल्टरनेटिंव करंट (AC) का आविष्कार हुआ था | यह प्रकृति में पहले से मौजूद नहीं था और DC करंट प्रकृति में पहले से मौजूद था इसीलिए हम कहते हैं. कि इसकी खोज हुई है |

बिजली के उपयोग को आज के स्थान पर लाने के लिए काम करने वाले अन्य लोगों में स्कॉटिश, जेम्स वाट, फ्रांसीसी गणितज्ञ आंद्रे एम्पीयर और जर्मन गणितज्ञ और भौतिक विज्ञानी जॉर्ज ओम शामिल हैं।

अल्टरनेटिव करंट (AC) यह है जिसका यूज हम अपने डेली लाइफ में हर दिन करते हैं जैसे बाल्ब,पंखा, वाशिंग मशीन, और जितने भी इलेक्ट्रॉनिक सामान हम अपने घर में यूज करते हैं वह सभी अल्टरनेटिव करंट (AC) से चलते हैं |

बैटरी से मिलने वाला करंट DC होता है सबसे पहले डीसी ( DC) करंट की खोज हुई थी और उसके बाद इसी के आधार पर एसी करंट का अविष्कार हुआ था |

 

बिजली का आविष्कार किसने किया

दोस्तों बिजली का आविष्कार किसी एक समय में किसी एक इंसान द्वारा नहीं हुआ था इसकी खोज के बाद से पीढ़ी दर पीढ़ी कई वैज्ञानिकों द्वारा इसमें कई सुधार किए गए और इसके बनाने के तरीकों का अविष्कार किया गया |

2700 BC से पहले लोगों को करंट के बारे में बस इतना पता था कि कुछ मछलियां होती है जिन को छूने से झटका लगता है |

बिजली का आविष्कार किसने किया
थेल्श

600 BC पहले थेल्स से ने पाया कि कांच या अंबर के टुकड़े को रेशम से रगड़ने पर उसमें ऐसी शक्ति आ जाती है जो कागज के टुकड़े को अपनी तरफ आकर्षित करती है |जो वास्तव में स्थैतिक बिजली थी |

सन 1600 ई. में विलियम गिलबर्ट ने सबसे पहले इलेक्ट्रिक वाट का यूज किया था |

 

फिर 1752 ईसवी में बेंजामिन फ्रैंकलीन अपने एक एक्सपेरिमेंट से पाया कि बारिश के समय जो आकाश में जो बिजली चमकती है और इलेक्ट्रिक से जो चिंगारियां निकलती है दोनों एक ही चीज है | फिर उन्होंने बारिश के समय में जिस समय बिजली कड़क रही थी उस समय उन्होंने एक पतंग को मेटल के टुकड़े से बांधकर उड़ाया और उसके लास्ट छोर पर एक धातु की चाबी को बांध दिया |

इसे भी पढ़े :  गूगल  का मालिक कौन है

उसने पाया कि जब बिजली कड़कती थी तब पतंग के रास्ते रस्सी से होते हुए बिजली चाबी पर आती थी और चाबी से उनको करंट का झटका लगता था | उन दिनों आकाशीय बिजली काफी लोगों के घर पर गिर जाए करती थी जिससे काफी लोगों के घरों में आग लग जाया करता था |

अपने एक्सपेरिमेंट के आधार पर बेंजामिन फ्रैंकलिन ने लाइटिंग कंडक्टर का आविष्कार किया | इसके बाद से यह समस्या दूर हो गई |

सन 1800 में इतालवी भौतिक विज्ञानी एलेसेंड्रो वोल्टा ने पाया कि केमिकल रिएक्शन करा कर भी हम इलेक्ट्रिसिटी बना सकते हैं इसके बाद उन्होंने जिंक और कॉपर के प्लेटो का यूज करके पहली बार बैटरी का आविष्कार किया |

फिर सन 1831 में माइकल फैराडे ने डीसी (DC) इलेक्ट्रिक डायनेमो मोटर और डीसी मोटर का आविष्कार किया | इसके बाद बिजली बनाने की समस्या दूर हो गई | जिसके बाद से इलेक्ट्रिसिटी को टेक्नोलॉजी के लिए यूज किए जाने लगा और इलेक्ट्रिक युग की शुरुआत हो गई | बाद में बड़े-बड़े डीसी (DC ) जनरेटर बनाए गए जिससे बड़े पैमाने पर डी सी करंट का प्रोडक्शन होने लगा |

सन 1878  ई में थॉमस अल्वा एडिसन ने बल्ब का आविष्कार किया इसके बाद से घरों एवं कारखानों में डीसी करंट का उपयोग होने लगा |

शोधकर्ताओं और पुरातत्वविदों ने 1930 के दशक में तांबे की चादरों के साथ बर्तनों की खोज की, जिनके बारे में उनका मानना है कि प्राचीन रोमन स्थलों पर प्रकाश उत्पन्न करने के लिए प्राचीन बैटरी हो सकती है।

इसी तरह के उपकरण बगदाद के पास पुरातत्व खुदाई में पाए गए थे जिसका अर्थ है कि प्राचीन फारसियों ने भी बैटरी के प्रारंभिक रूप का उपयोग किया होगा।

बिजली का आविष्कार किसने किया और कैसे किया ?

बिजली का आविष्कार किसने किया
निकोला टेसला

निकोला टेस्ला को बचपन से ही इलेक्ट्रिसिटी में बहुत इंटरेस्ट था सन 1881 में अपनी पढ़ाई पूरी करके निकोला टेस्ला एक टेलीफोन एक्सचेंज कंपनी में इंजीनियर के तौर पर काम करने लगे | फिर सन 1883 में किसी कारण निकोला टेस्ला ने टेलीफोन एक्सचेंज की नौकरी छोड़ दी और एडिशन की कंपनी में नौकरी करने लगे |

निकोला टेस्ला ने अपने (AC) करंट प्रोजेक्ट को दिखाया लेकिन एडिशन ने उसे खतरनाक बताकर टाल दिया क्योंकि एडिशन को डर था कि एसी करंट के आने से उनका डीसी करंट का प्रोडक्ट खत्म हो जाएगा और उनकी कंपनी बंद हो जाएगी |

फिर एक दिन एडिशन के डीसी जनरेटर में कमी आया तो उन्होंने निकोला टेस्ला को कहां की अगर वह उसे ठीक कर देंगे तो उसे $50000 देंगे जो समय बहुत बड़ी रकम थी |

निकोला टेस्ला ने उसे दिन रात एक कर के डीसी जनरेटर ठीक कर दिया |जब उनके पास पैसे लेने गए तो एडिसन ने उसे यह बोलकर पैसे नहीं दिए कि मैंने तो तुमसे मजाक किया था तुम अमेरिकन के मजाक को भी नहीं समझते | इससे निकोला टेस्ला को बहुत गुस्सा आया और उन्होंने एडिशन के कंपनी को छोड़ दिया |

फिर उन्होंने अमेरिका के एक बड़े बिजनेसमैन जॉर्ज वेस्टिंगहाउस के साथ मिलकर एक कंपनी खोली. सन 1887 में निकोला टेस्ला ने AC डायनेमो एवं AC मोटर का आविष्कार किया और अपनी कंपनी में AC करंट का प्रोडक्शन करने लगे.  इस बात से एडिशन को बहुत जलन हुआ और उन्होंने निकोला टेस्ला के ऐसे करंट को इंसानों के लिए खतरनाक बताया |

एडिशन लोगों के सामने जानवरों पर एसी करंट के प्रयोग करके भी दिखाया जिससे उन जानवरों की मौत हो जाती थी जिससे ऐसी करंट के ऊपर लोगों के सवाल भी उठे फिर भी ऐसी करंट की लोकप्रियता कम नहीं हुई क्योंकि इससे बहुत फायदे भी थे |

जैसे : डीसी ( DC ) करंट से शार्ट सर्किट का खतरा ज्यादा होता था और डीसी करंट 2 मील से ज्यादा ट्रैवल नहीं कर पाते थे | वही ऐसी (AC ) करंट से शॉर्ट सर्किट का खतरा भी कम होता था और यह एसी करंट हजारों मिल तक बिना किसी रूकावट के जा सकती थी|

जहां एडिशन के डीसी करंट बहुत महंगा था वही निकोला टेस्ला का एसी करंट बहुत सस्ता था अंत में एडीशन को हार मानना ही पड़ा | आज हम घरों एवं फैक्ट्रियों में जिस बिजली का यूज़ करते हैं वह महान वैज्ञानिक निकोला टेस्ला की ही देन है |

read also

⇒    भारत का सबसे अमीर आदमी कौन है

    वायुमंडल किसे कहते हैं

⇒    विश्व के मरुस्थल

⇒  भारत की जनसंख्या कितनी है

दोस्तों आज हमने पूरी बिस्तार से जाना है  की बिजली का आविष्कार किसने किया और कैसे किया. अगर आपको इस लेख को पढ़ने में कोई कमी लग रही हो तो आप हमें कमेंट करके बता सकते है . जिसे तुरंत अपडेट किया जायेगा : धन्यवाद्

 

comment here