भारत की जनसंख्या कितनी है

आज के इस आर्टिकल में बिस्तार से जानेंगे भारत की जनसंख्या कितनी है  और इससे सम्बंधित महत्वपूर्ण सभी जानकारियो को इस लेख में जानेगे तो आप इस लेख को पूरा पढ़े |

भारत की जनसंख्या कितनी है

हमारा देश भारत एक विशाल प्रजातांत्रिक देश है । जिसकी 1 अरब 21 करोड़ से अधिक की जनसंख्या है जो 36 राज्यों / 8 केन्द्रशासित प्रदेशों , 640 जिलों , 5924 तहसीलों  7936 कस्बों तथा 6.41 लाख गाँवों में निवास करती है ।

भारत के महारजिस्ट्रार एवं जनगणना आयुक्त डॉ . सी . चंद्रमौलि के नेतृत्व में 20 लाख से अधिक प्रशिक्षित प्रगणकों / पर्यवेक्षकों एवं अधिकारियों ने जनगणना का सफलतापूर्वक अंजाम दिया । इतना ही नहीं 28 फरवरी , 2011 की आधी रात को जनगणना कार्य की समाप्ति के बाद , एक माह के अंदर 31 मार्च , 2011 को राष्ट्रीय जनगणना 2011 के अनंतिम आँकड़े जारी कर दिए गये ।

अनंतिम आँकड़े के अनुसार भारत की जनसंख्या 1,21,01,93,422 है । 30 अप्रैल , 2013 को जारी किए गए अंतिम आंकड़ों के अनुसार भारत की जनसंख्या 1,21,05,69,573 थी ।

परंतु 7 जनवरी , 2014 को मणिपुर के सेनापति जिले के तीन उपखण्डों माओमारम , पाओमाटा एवं पुरूल उपखण्डों के वास्तविक आँकड़े शामिल करने के बाद भारत की जनसंख्या 1 , 21 , 08.54,977 हो गई है ।

राष्ट्रीय जनगणना -2011 भारत की 15 वीं ( 1872 ई . से प्रारंभ ) एवं स्वतंत्र भारत की 7 वीं जनगणना है । 31 मार्च , 2011 को ” हमारी जनगणना , हमारा भविष्य ” नामक शीर्षक वाक्य के साथ जनगणना -2011 के अनंतिम आंकड़ों को गृह सचिव जी . के . पिल्लै की उपस्थिति में महापंजीयक एवं जनगणना आयुक्त डॉ . सी . चंद्रमौलि ने जारी किया ।

जनगणना के अनुसार भारत की जनसंख्या , विश्व की कुल जनसंख्या का 17.5 प्रतिशत है । . ब्रिटिश भारत में पहली जनगणना 1872 में लॉर्ड मेयो के कार्यकाल में हुई थी ।  1881 ई . में लॉर्ड रिपन के समय से प्रत्येक दस वर्ष के अंतराल पर जनसंख्या का क्रमवार आकलन प्रारंभ हुआ , जो आज भी जारी है ।

भारत की जनसंख्या ( 121.08 करोड़ ) संयुक्त राज्य अमेरिका , इंडोनेशिया , ब्राजील , पाकिस्तान , बांग्लादेश और जापान की संयुक्त जनसंख्या ( 121.43 करोड़ ) के लगभग बराबर है ।

भारत की जनसंख्या में 2001 से 2011 के दौरान ( एक दशक में ) 18.2 करोड़ की वृद्धि हुई है ।  जनगणना -2011 के अनुसार भारत की जनसंख्या की दशकीय ( 2001-2011 ) वृद्धि दर 17.7 प्रतिशत और वार्षिक दर 1.77 प्रतिशत है ।

भारत की जनसंख्या में सर्वाधिक वृद्धि 1961-71 के दशक में 24.80 प्रतिशत हुई थी ।

जनगणना -2011 के अनुसार सर्वाधिक तथा न्यूनतम दशकीय ( 2001-2011 ) जनसंख्या दर क्रमशः दादरा एवं नागर हवेली ( 55 . 9 % ) और नगालैंड ( -0.6 % ) में हुई है ।

जनगणना -2011 के अनुसार सर्वाधिक जनसंख्या वृद्धि दर वाला जिला कुरूंग फुये ( अरुणाचल प्रदेश ) है जिसकी वृद्धि दर 111.01 प्रतिशत रही है ।

वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार न्यूनतम जनसंख्या वृद्धि दर वाला जिला लांगलेंग ( नगालैंड ) है जिसकी वृद्धि दर -58.39 प्रतिशत रही है ।

जनगणना 2011 के अनुसार देश में सर्वाधिक जनसंख्या वाले दो जिले ( 1,10,54,131 ) एवं उत्तरी चौबीस परगना ( 1,00,82,852 ) जनगणना 2011 के अनुसार देश में न्यूनतम थाणे जनसंख्या वाले दो जिले – दिबांग घाटी ( अरुणाचल प्रदेश ) एवं अंजाव ( अरुणाचल प्रदेश ) देश में सर्वाधिक जिलों वाला राज्य : उत्तर प्रदेश ( 71 जिले

देश का लिंगानुपात ( 1000 पुरुषों पर महिलाओं की संख्या ) 943 है ।

जनगणना 2011 के अनुसार न्यूनतम लिंगानुपात वाले पाँच राज्य हरियाणा ( 879 ) , जम्मू – कश्मीर ( 889 ) , सिक्किम ( 890 ) , पंजाब ( 895 ) एवं उत्तर प्रदेश ( 912 )

सर्वाधिक लिंगानुपात वाले दो जिले – पुडुचेरी का माहे ( 1176 ) और उत्तराखंड का अल्मोड़ा ( 1142 )

न्यूनतम लिंगानुपात वाले दो जिले दमन ( 533 ) और लेह ( 583 )

जनगणना 2011 के अनुसार देश की साक्षरता दर 73.0 प्रतिशत है जो 2001 की जनगणना में 64.84 प्रतिशत थी ।

साक्षर जनसंख्या में वर्ष 2010 की तुलना में वर्ष 2011 में 38.82 प्रतिशत की वृद्धि हुई है ।

देश में सर्वाधिक साक्षरता दर वाले दो जिले सरछिप ( 98.76 ) और अजावल ( 98 . 50 ) ( मिजोरम )

देश में न्यूनतम साक्षरता दर वाले दो जिले अलीराजपुर ( मध्यप्रदेश ) और बीजापुर ( छत्तीसगढ़ ) 2011 की जनगणना के अंतिम आँकड़ों के अनुसार भारत का जनसंख्या घनत्व 382 व्यक्ति प्रतिवर्ग किमी . है ।

2001-2011 के दशक में जनसंख्या घनत्व में 57 व्यक्ति / वर्ग किमी . की वृद्धि हुई है ।  देश में सर्वाधिक जनसंख्या घनत्व वाले दो जिले – उत्तर – पूर्वी दिल्ली ( 36,155 ) एवं चेन्नई ( 26,903 )

जनगणना 2011 के अंतिम आँकड़ों के अनुसार भारत में अनुसूचित जाति की संख्या 20.8 प्रतिशत की दशकीय वृद्धि के साथ 20,13,78,086 हो गई है जो देश की कुल जनसंख्या का 16.6 प्रतिशत है ।

अनुसूचित जाति की सर्वाधिक जनसंख्या वाला राज्य / केन्द्र शासित प्रदेश उत्तर – प्रदेश है जबकि अनुसूचित जाति की निम्नतम जनसंख्या वाला राज्य / केन्द्र शासित प्रदेश मिजोरम है ।

अनुसूचित जाति की सर्वाधिक जनसंख्या प्रतिशतता वाला राज्य / केन्द्र शासित प्रदेश पंजाब है जबकि अनुसूचित जाति की निम्नतम जनसंख्या प्रतिशतता वाला राज्य / केन्द्र शासित प्रदेश मिजोरम है ।

2001-2011 के दशक में जनसंख्या घनत्व में 57 व्यक्ति / वर्ग किमी . की वृद्धि हुई है ।

देश में सर्वाधिक जनसंख्या घनत्व वाले दो जिले – उत्तर – पूर्वी दिल्ली ( 36,155 ) एवं चेन्नई ( 26,903 )

पंजाब , चंडीगढ़ , हरियाणा , दिल्ली एवं पुडुचेरी में कोई अनुसूचित जनजाति नहीं पाई जाती है ।

 

पूरा दुनिया में सबसे ज्यादा जनसंख्या वाला देश है |

China  :  139.77 crores

India  :  136.64 crores

United States   : 32.82 crores

 

भारत में लिंगानुपात

वर्ष

लिंगानुपात

1901

972

1911

964

1921

955

1931

950

1941

945

1951

946

1961

941

1971

930

1981

934

1991

927

2001

933

2011

943

 

अनुसूचित जनजाति के आँकड़ों ( 2011 ) के बारे में 

अरुणाचल प्रदेश , नगालैंड , अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह और लक्षद्वीप में कोई अनुसूचित जाति नहीं है । जनगणना 2011 के अंतिम आँकड़ों के अनुसार भारत में अनुसूचित जनजाति की संख्या की दशकीय वृद्धि के साथ 23.7 प्रतिशत की दशकीय वृद्धि के साथ 10,42,81,034 हो गई है जो देश की कुल जनसंख्या 8.6 प्रतिशत है ।

अनुसूचित जनजाति की सर्वाधिक जनसंख्या वाला राज्य / केन्द्रशासित प्रदेश मध्य प्रदेश है जबकि अनुसूचित जनजाति की निम्नतम जनसंख्या वाला राज्य / केन्द्रशासित प्रदेश दमन एवं दीव है ।

अनुसूचित जनजातियों की सर्वाधिक जनसंख्या प्रतिशतता वाला राज्य / केन्द्र शासित प्रदेश लक्षद्वीप है जबकि अनुसूचित जातियों की निम्नतम जनसंख्या प्रतिशतता वाला राज्य / केन्द्र शासित प्रदेश उत्तर प्रदेश है ।

जनगणना 2011 के अंतिम आँकड़ों के अनुसार भारत में अनुसूचित जाति की संख्या 20.8 प्रतिशत की दशकीय वृद्धि के साथ 20,13,78,086 हो गई है जो देश की कुल जनसंख्या का 16.6 प्रतिशत है ।

अनुसूचित जाति की सर्वाधिक जनसंख्या वाला राज्य / केन्द्र शासित प्रदेश उत्तर – प्रदेश है जबकि अनुसूचित जाति की निम्नतम जनसंख्या वाला राज्य / केन्द्र शासित प्रदेश मिजोरम है ।

अनुसूचित जाति की सर्वाधिक जनसंख्या प्रतिशतता वाला राज्य / केन्द्र शासित प्रदेश पंजाब है जबकि अनुसूचित जाति की निम्नतम जनसंख्या प्रतिशतता वाला राज्य / केन्द्र शासित प्रदेश मिजोरम है ।

अरुणाचल प्रदेश , नगालैंड , अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह और लक्षद्वीप में कोई अनुसूचित जाति नहीं है ।

जनगणना 2011 के अंतिम आँकड़ों के अनुसार भारत में अनुसूचित जनजाति की संख्या की दशकीय वृद्धि के साथ 23.7 प्रतिशत की दशकीय वृद्धि के साथ 10,42,81,034 हो गई है जो देश की कुल जनसंख्या 8.6 प्रतिशत है ।

पंजाब , चंडीगढ़ , हरियाणा , दिल्ली एवं पुडुचेरी में कोई अनुसूचित जनजाति नहीं पाई जाती है ।

 

जनसंख्या के महत्वपूर्ण आकड़े

वर्ष

जनसंख्या ( करोड़ में )

190123.83
191125.20
192125.13
193127.89
194131.86
195136.10
196143.92
197154.81
198168.33
199184.64
20011 : 02.87
20111,21.08

 

भारत में जनसंख्या का संक्रमण काल

प्रथम अवस्था : ( वर्ष 1901 से वर्ष 1921 तक ) देश की जनसंख्या में धीमी गति से वृद्धि हुई ।

प्रथम अवस्था ( 1901-1921 ) का कारण ‘ उच्च जन्म दर ‘ के साथ – साथ विद्यमान ‘ उच्च मृत्यु दर ‘ रही । देश में भीषण अकाल व महामारी के चलते जनसंख्या में ‘ उच्च मृत्यु दर ‘ की प्रवृत्ति थी ।

द्वितीय अवस्था : ( वर्ष 1921 से वर्ष 1951 तक ) देश की जनसंख्या लगभग स्थिर दर से उत्तरोत्तर बढ़ती रही ।

द्वितीय अवस्था ( 1921-1951 ) में जनसंख्या वृद्धि का मुख्य कारण अकाल एवं महामारियों पर नियंत्रण से हुई ‘ मृत्यु दर में कमी ‘ थी । इससे मृत्यु दर तो घटी , किन्तु जन्म दर में कोई कमी नहीं हुई । वर्ष 1921 को ‘ महान विभाजक वर्ष ‘ ( Great Divide Year ) के नाम से जाना जाता है ।

तृतीय अवस्था : ( वर्ष 1951 से वर्ष 1981 तक ) देश की जनसंख्या में अत्यधिक तेजी से वृद्धि हुई ।

तृतीय अवस्था ( 1951-1981 ) में जनसंख्या में तीव्र वृद्धि का कारण इस अवधि में मृत्यु दर का लगातार घटते जाना तथा जन्म दर में लगभग स्थिरता की स्थिति का बने रहना था ।

चतुर्थ अवस्था : ( वर्ष 1981 से वर्ष 2011 तक ) देश की जनसंख्या में वृद्धि तो हुई , किन्तु वृद्धि दर में गिरावट का रुख जारी रहा ।

चतुर्थ अवस्था ( 1981-2011 ) का प्रमुख कारण लोगों में छोटे परिवार की अवधारणा के बलवती होने से जन्म दर में आई मामूली गिरावट है ।

स्पष्टीकरण : चतुर्थ अवस्था के आधार पर स्पष्ट है कि भारत जनसंख्या संक्रमण के उस अवस्था में प्रवेश ( अर्थशास्त्रियों का अनुमान -2020 के उपरान्त ) कर सकेगा , जब मृत्यु दर में कमी के साथ – साथ जन्म दर में भी कमी आएगी ।

इस तरह जनसंख्या वृद्धि के संदर्भ में स्थिरता प्राप्त करने में भारत को अपेक्षाकृत अधिक समय लगने की संभावना है ।

 

भारत की जनसंख्या कितनी है

01 जम्मू एवं कश्मीर1.25.41.302
02 हिमाचल प्रदेश68,64,602
03 पंजाब2,77,43,338
04 चंडीगढ़10,55,450
05 उत्तराखंड1,00,86,292
06 हरियाणा2,53,51,462
07 दिल्ली1,67,87,941
08 राजस्थान6,85,48,437
09 उत्तर प्रदेश19,98,12,341
10 बिहार10,40,99,452
11 सिक्किम6,10,577
12 अरुणाचल प्रदेश13,83,727
13 नगालैंड19,78,502
14 मणिपुर28,55,794
15 मिजोरम10,97,206
16 त्रिपुरा36,73,917
17 मेघालय29,66,889
18 असम3,12,05,576
19 प . बंगाल9,12,76,115
20 झारखंड3,29,88,134
21 ओडिशा4,19,74,218
22 छत्तीसगढ़2,55,45,198
23 मध्य प्रदेश7,26,26,809
24 गुजरात6,04,39,692
25 दमन एवं दीव2,43,247
26 दादरा एवं नगर हवेली3,43,709
27 महाराष्ट्र11,23,74,333
28 आंध्र प्रदेश एवं तेलंगाना8,45,80,777
29 कर्नाटक6,10,95,297
30 गोवा14,58,545
31 लक्षद्वीप64,473
32 / केरल3,34,06,061
33 तमिलनाडु7,21,47,030
34 पुडुचेरी12,47,953
35 अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह3,80,581
भारत की कुल जनसंख्या  = 1,21,08,54,977

 

जनसंख्या घनत्व, लिंगानुपात , साक्षरता दर कैसे मप्ये है 

जनसंख्या घनत्व =  किसी देश या राज्य में प्रति वर्ग कि ० मी ० में निवास करने वाले व्यक्तियों की संख्या को जनसंख्या घनत्व कहते हैं ।

लिंगानुपात =  प्रति 1000 पुरुषों की तुलना में स्त्रियों की संख्या को लिंगानुपात कहते हैं ।

दशकीय वृद्धि दर =  दस वर्षों के मध्य ( जैसे 2001 से 2011 के मध्य ) जनसंख्या में प्रतिशत वृद्धि को दशकीय वृद्धि दर कहते हैं ।

साक्षरता दर =  साक्षरों की संख्या आयु वाली जनसंख्या अर्थात् 7 वर्ष और उससे अधिक आयु वाली कुल जनसंख्या में साक्षरों के प्रतिशत को जनसंख्या की साक्षरता दर कहते हैं ।

 

read more : 

 

दोस्तों उम्मीद करता हूँ की भारत की जनसंख्या कितनी है से सबंधित सभी प्रकार की जानकारिया हमने इस आर्टिकल में प्रदान की है | अगर आपको लगता है की इसमें कुछ सुधार करने की आवश्यकता है तो आप हमें कमेंट करके बता सकते है | धन्यबाद ?

comment here