क्रिप्टोकरेंसी क्या है | क्रिप्टो करेंसी की कीमत कैसे तय होती है

देश में क्रिप्टोकरेंसी को लेकर अनिश्चितता का माहौल बना हुआ है. बिटकॉइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी को लेकर चीजें साफ नहीं है इससे निवेशक नर्वस है और घरेलू क्रिप्टोकरंसी एक्सचेंज इस पर दबाव बना रहे हैं |

जहां कुछ निवेशक क्रिप्टोकरंसी एक्सचेंज से ज्यादा स्टेट मांग रहे हैं. वहीं कुछ निवेशक इस बात से खफा है कि वह अपने पैसा नहीं निकाल पा रहे हैं | इसकी वजह यह है कि बैंकों और पेटीएम ने अपने प्लेटफार्म पर क्रिप्टोकरेंसी ट्रांजैक्शन की इजाजत देने से मना कर दिया है |

इसीलिए बीते दिन क्रिप्टोकरेंसी के मार्केट में करीब 1 ट्रिलियन डॉलर का नुकसान हुआ है जिससे निवेशकों को निराशा हुई थी |

क्रिप्टोकरेंसी क्या है ? ( what is criptocarency )

क्रिप्टोकरेंसी एक तरह की वर्चुअल करेंसी है जिसे डिजिटल करेंसी भी कहा जाता है. आसान शब्दों में समझें तो क्रिप्टो करंसी किसी मुद्रा का एक डिजिटल रूप है. यह किसी सिक्के या नोट की तरह ठोस रूप में या अप्रत्यक्ष रूप से आपकी जेब में नहीं होती है |

बल्कि यह पूरी तरह से डिजिटल होती है डॉलर या रुपए जैसी करेंसी की तरह क्रिप्टो करेंसी से भी लेनदेन किया जा सकता है | क्रिप्टो करंसी का कोई बैंक, कोई सरकार या कोई भी नियामक अथॉरिटी जारी नहीं करती है |

इसे जारी करने वाले हि इसे कंट्रोल करते हैं | क्रिप्टोकरेंसी का इस्तेमाल डिजिटल दुनिया में ही होता है | ग्राहक क्रिप्टो करेंसी को ऑनलाइन वॉलेट में रख सकते हैं | मौजूदा वक्त में दुनिया भर में कई तरह की वर्चुअल करेंसी प्रचलन में है | जैसे बिटकॉइन, ईथर, रिप्पल, लाइट कॉइन आदि |

इनमें बिटकॉइन सबसे मशहूर क्रिप्टोकरेंसी है और इसका मूल्य भी सबसे ज्यादा है |

क्रिप्टो करेंसी के ट्रेडिंग में अपने ग्राहकों को अपने देश के नियम कानून ध्यान में रखने होते हैं हर क्रिप्टो करंसी की अपनी अलग वैल्यू होती है कई फैक्टर जो इनका वैल्यू डिसाइड करते हैं |

बिटकॉइन क्या है?

बिटकॉइन एक विकेन्द्रीकृत डिजिटल मुद्रा है | जिसमे  आप बिना बैंक के माध्यम से सीधे खरीद, बेच और विनिमय कर सकते हैं। बिटकॉइन के निर्माता, सतोशी नाकामोतो, ने मूल रूप से  क्रिप्टोग्राफिक सबूत पर आधारित एक इलेक्ट्रॉनिक भुगतान प्रणाली” की आवश्यकता का वर्णन किया।

क्रिप्टोकरेंसी क्या है | क्रिप्टो करेंसी की कीमत कैसे तय होती है
                                                  resoures : quick support

प्रत्येक बिटकॉइन लेनदेन जो कभी भी किया जा सकता है, जो एक सार्वजनिक वेबसाइट और एप पर मौजूद है, जो सभी के लिए सुलभ है, बिटकॉइन सरकार या किसी भी जारी करने वाले संस्थान द्वारा समर्थित नहीं हैं, और सिस्टम के दिल में पके हुए सबूत के अलावा उनके मूल्य की गारंटी देने के लिए कुछ भी नहीं है।

हालाँकि यह पहली बार $ 150 प्रति सिक्का के तहत बेचा गया था, 1 मार्च, 2021 तक, एक बिटकॉइन अब लगभग $ 50,000 में बिकता है।

क्रिप्टो करेंसी की कीमत कैसे तय होती है

क्रिप्टो करेंसी की कीमत मांग और आपूर्ति के सिद्धांत पर तय होती है, यानी जब उसकी मांग ज्यादा होगी और आपूर्ति कम होगी तो इसकी कीमत भी ज्यादा होगी | लेकिन अगर मांग कम हुई आपूर्ति ज्यादा हुई तो उसकी कीमत भी कम हो जाएगी ।

क्रिप्टो करेंसी की शुरुआत कब हुई थी

क्रिप्टो करेंसी की शुरुआत की बात करें तो 1983 में अमेरिकन क्रिप्टोग्राफर डेविड चाम ने ecash नाम से सबसे पहले क्रिप्टोग्राफिक इलेक्ट्रॉनिक मनी बनाई थी .

इसे भी पढ़े :  नेटवर्क मार्केटिंग क्या है ( network marketing kya hai )

1995 में डिजिटल कैश के जरिए इसे लागू किया गया | 2009 में साकोशी नाकामोतो नाम के वर्चुअल निर्माता ने बिटकॉइन नाम की क्रिप्टोकरेंसी बनाई इसके बाद ही क्रिप्टोकरंसी को दुनिया भर में लोकप्रियता मिली ।

क्रिप्टोकरेंसी कैसे ख़रीदे 

क्रिप्टोकरेंसी को खरीदने और बेचने की प्रक्रिया काफी आसान है | क्रिप्टो करेंसी की खरीद बिक्री क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज वेबसाइट और ऐप के जरिए की जा सकती है |

क्रिप्टोकरेंसी क्या है | क्रिप्टो करेंसी की कीमत कैसे तय होती है
                                                                 resoures : quick support

इसके लिए सबसे पहले इन्वेस्टर को इन प्लेटफार्म पर साइन अप करना होता है| फिर अपना केवाईसी प्रोसेस पूरा करके वैलेट में मनी ट्रांसफर करना होता है या फिर बैंक खाते ,डेबिट या क्रेडिट कार्ड के जरिए भुगतान करके इन्वेस्टर क्रिप्टो करेंसी की खरीद बिक्री कर सकता है |

इसकी ट्रेडिंग कैसे की जाती है 

क्रिप्टो करेंसी की खरीद बिक्री के लिए दूसरा ऑप्शन पर्सन टो पर्सन ट्रांजैक्शन है इसमें आप इंटरेस्टेड खरीददार और बेचने वाले को ढूंढ कर एक्सचेंज कर सकते हैं |

क्रिप्टो करेंसी को खरीदने के लिए कोई लिमिट टाइम नहीं है | देश में बिटकॉइन और डोजी कॉइन जैसी क्रिप्टो करेंसी को खरीदना और बेचना काफी आसान है |

क्रिप्टोकरेंसी से जुड़ी चुनौतियां क्या क्या है

  • क्रिप्टो करेंसी की पूरी व्यवस्था ऑनलाइन होने के कारण इसकी सुरक्षा का खतरा बना रहता है |
  • क्रिप्टो करेंसी की सबसे बड़ी समस्या है, ऑनलाइन होना और यही कारण है कि क्रिप्टो करेंसी को एक असुरक्षित मुद्रा माना जाता है  |
  • ज्यादातर बैंक क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज के साथ काम करने के लिए तैयार नहीं है जिसने इस लेनदेन  की प्रक्रिया को मुश्किल बना दिया है |
  • अगर आपका फाइल सर्वर से हट गया या पासवर्ड भूल गए तो आपका सारा पैसा डूब सकता है |
  • अगर आपके क्रिप्टो करेंसी अकाउंट में कोई गड़बड़ी हुई तो आप कहीं शिकायत नहीं कर सकते हैं |

निष्कर्ष :

हमारे देश में क्रिप्टो करंसी में निवेश करने की लोकप्रियता इस कदर बढ़ती जा रही है. की अलग-अलग क्रिप्टो एक्सचेंज डाटा के मुताबिक करीब डेढ़ करोड़ भारतीयों ने क्रिप्टो करेंसी मार्केट में लगभग 15000 करोड़ रुपए का इन्वेस्टमेंट किया है |

भविष्य में क्रिप्टो करेंसी का प्रचलन और ज्यादा बढ़ने की संभावना जताई जा रही है | ऐसे में क्रिप्टो करेंसी को अपनाने को लेकर अस्पष्ट दिशा निर्देश जारी किया जाना जरूरी हो गया है | सरकार को जल्द से जल्द इस संबंध में विस्तृत दिशा निर्देश जारी करना चाहिए |

Read More : 

⇒   नेटवर्क मार्केटिंग क्या है ( network marketing kya hai )

⇒ मौलिक अधिकार

⇒ भारतीय संविधान की अनुसूचियां

दोस्तों उम्मीद करता हूं कि इस आर्टिकल में आप विस्तार से समझे होंगे की क्रिप्टोकरेंसी क्या है बिटकॉइन क्या है और इससे संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में जाने होंगे | अगर आपको या आर्टिकल पसंद आया हो तो आप हमें कमेंट जरूर करें : धन्यवाद

1 thought on “क्रिप्टोकरेंसी क्या है | क्रिप्टो करेंसी की कीमत कैसे तय होती है”

comment here