UNO के अंग, कार्य, उदेश्य तथा UNO full form in hindi

UNO full form: यू एन ओ का नाम तो सभी ने सुना है लेकिन UNO का फुल फॉर्म के बारे में बहुत कम लोग ही जानते है तो आज के  इस आर्टिकल में हमलोग जानने की UNO full form in hindi क्या है, UNO के कितने अंग है तथा UNO से सम्बंधित सभी जानकारियाँ इस आर्टिकल में जानेंगे आप इस आर्टिकल को पूरा जरुर पढ़े|

यू एन ओ का फुल फॉर्म क्या होता है | UNO full form

UNO का फुल फॉर्म: संयुक्त राष्ट्र संघ होता है जिसे अंग्रेजी में  United Nations Organization होता है |  विश्व में शांति स्थापित करने के उद्देश्य से 26 जून 1945 ई को सैन फ्रांसिस्को सम्मेलन में UNO का घोषणा – पत्र तैयार किया गया जो कि 24 अक्टूबर 1945 ई. को लागू हुआ । प्रतिवर्ष 24 अक्टूबर को संयुक्त राष्ट्र संघ दिवस के रूप में मनाया जाता है ।

UNO बनाने का उदेश्य 

  1. अंतर्राष्ट्रीय शांति एवं सुरक्षा को बनाए रखना ।
  2. राष्ट्रों के बीच एक दूसरे का सम्मान और मैत्रीपूर्ण संबंध बनाना ।
  3. आर्थिक , सामाजिक , सांस्कृतिक एवं शैक्षिक समस्याओं का विश्व स्तर पर निवारण करना ।
  4. राष्ट्रों को आत्मनिर्भर , आत्मनिर्णय और उपनिवेशवाद विघटन की प्रक्रिया को गति देना ।
  5. निरस्त्रीकरण और नई आर्थिक व्यवस्था की स्थापना करना ।

संयुक्त राष्ट्र संघ के बारे में जानकारी

संयुक्त राष्ट्र का ध्वज : हल्की नीली पृष्ठभूमि पर श्वेत रंग से संयुक्त राष्ट्र संघ का प्रतीक प्रतीक है- जैतून की दो वक्राकार शाखाएँ जो ऊपर खुली हैं और उनके बीच में विश्व का मानचित्र है ।

वर्ष 2000 में प्रशांत महासागर के एक छोटे से द्वीप तुवालू को 189 वें , वर्ष 2002 में स्विट्जरलैंड को 190 वें , पूर्वी तिमोर को 191 वें तथा वर्ष 2006 में मोंटेनेग्रो को 192 वें सदस्य देश के रूप में मान्यता प्रदान की गई ।

इसे भी पढ़े : कैलेंडर का आविष्कार किसने किया था

संयुक्त राष्ट्र संघ की सदस्यता के लिए निर्णय , सुरक्षा परिषद् के पाँच स्थायी सदस्यों की सहमति और महासभा की दो-तिहाई बहुमत के आधार पर लिया जाता है ।

घोषणा पत्र का उल्लंघन करने वाले सदस्य देशों को महासभा और सुरक्षा परिषद् की सिफारिश से दो-तिहाई बहुमत द्वारा निष्कासित किया जा सकता है

  • संयुक्त राष्ट्र संघ की कार्यकारी भाषा अंग्रेजी और फ्रेंच है |
  • संयुक्त राष्ट्र संघ की अधिकारिक ( मान्यता प्राप्त ) भाषाएँ – अंग्रेजी , फ्रेंच , चीनी , अरबी , रूसी एवं स्पेनिश है ।
  • संयुक्त राष्ट्र संघ का मुख्यालय न्यूयॉर्क है ।
  • वर्तमान में संयुक्त राष्ट्र संघ के सदस्य देशों की कुल संख्या 193 है ।
  • 193 वें सदस्य के रूप में दक्षिणी सूडान संयुक्त राष्ट्र संघ का सदस्य वर्ष 2011 में बना है ।
UNO full form in hindi
                                                                 UNO full form in hindi

संयुक्त राष्ट्र संघ(UNO) के प्रमुख सिद्धांत 

  1. यह सभी सदस्य देशों की प्रभुता की समानता पर आधारित है ।
  2. सभी सदस्य देश घोषणा – पत्र में वर्णित अपने कर्तव्यों का निर्वाह करेंगे ।
  3. वे अन्तर्राष्ट्रीय शान्ति और सुरक्षा एवं न्याय के अनुरूप अपने विवाद का समाधान निकालेंगे ।
  4. सदस्य देश किसी भी अन्य दूसरे देश के विरुद्ध बल का प्रयोग नहीं करेंगे ।
  5. सदस्य देश घोषणा – पत्र के अनुरूप कोई भी कार्य करेंगे
  6. सदस्य देश किसी भी देश के घरेलू मामलों में हस्तक्षेप नहीं करेंगे ।

संयुक्त राष्ट्र संघ (UNO) के अंग

महासभा (General Assembly)

यह संयुक्त राष्ट्र संघ की व्यवस्थापिका सभा है । इसमें सभी सदस्य राष्ट्रों के प्रतिनिधि सम्मिलित हैं । प्रत्येक राष्ट्र सदस्य इसमें अधिकतम पाँच प्रतिनिधि भेज सकता है , किन्तु प्रत्येक राष्ट्र सदस्य को एक ही वोट देने का अधिकार होता है ।

महासभा शान्ति , निःशस्त्रीकरण , आर्थिक विकास , परमाणु शक्ति का शान्तिमय उपयोग , सामाजिक प्रगति , मानवीय अधिकार इत्यादि सभी विषयों पर विचार कर सकती है । इसकी बैठक वर्ष में एक बार अवश्य होती है किन्तु सुरक्षा परिषद् के आह्वान पर इसकी आपात बैठक कभी भी बुलाई जा सकती है ।

इसे भी पढ़े : MSP full form in hindi | MSP क्या है

महासभा के प्रतिनिधियों द्वारा एक वर्ष के लिए इसके अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष का चुनाव होता है ।  सुरक्षा परिषद् के 10 अस्थायी सदस्यों का चुनाव महासभा द्वारा ही किया जाता है ।  संयुक्त राष्ट्र संघ का बजट भी महासभा द्वारा पारित किया जाता है और इसी में प्रत्येक सदस्य के योगदान का निर्णय होता है ।

महासभा सुरक्षा परिषद् के अस्थायी सदस्यों , आर्थिक तथा सामाजिक परिषद् के सदस्यों और न्यासी परिषद् के निर्वाचित सदस्यों को चुनती है । अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के सदस्यों को महासभा और सुरक्षा परिषद् संयुक्त रूप से चुनती है ।

 सुरक्षा परिषद् (Security Council)

यह संयुक्त राष्ट्र संघ की कार्यपालिका है । इसके पाँच स्थायी और 10 अस्थायी सदस्य हैं । अमेरिका , रूस , ब्रिटेन , फ्रांस और चीन सुरक्षा परिषद् के स्थाई सदस्य हैं । अस्थायी सदस्यों को महासभा द्वारा दो वर्ष के लिए सदस्य राष्ट्रों में से चुना जाता है ।

अस्थायी सदस्यों का क्षेत्रीय वितरण निम्न प्रकार है

  • अफ्रीकी एशियाई : 5
  • लैटिन अमेरिका : 2
  •  पश्चिमी यूरोप एवं अन्य :  2
  • पूर्वी यूरोप : 1

महत्त्वपूर्ण विषयों पर निर्णय लेने के लिए नौ वोटों की आवश्यकता पड़ती है , बशर्ते पाँच स्थायी सदस्यों में से किसी का भी निषेधात्मक वोट न हो ।

अधिकार और कार्य

सुरक्षा परिषद् महासभा के साथ अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के न्यायाधीशों को चुनती है ।  यह नये सदस्यों के प्रवेश , पुराने सदस्यों के निष्कासन या निलम्बन और महासचिव ( Secretary General ) की नियुक्ति की सिफारिश करती है । सुरक्षा परिषद् संयुक्त राष्ट्र संघ के उद्देश्यों एवं सिद्धांतों के अनुकूल अन्तर्राष्ट्रीय शान्ति और सुरक्षा को बनाये रखने का प्रयास करती है ।

इसे भी पढ़े : घड़ी का आविष्कार किसने, कब, और किस देश में किया था |

आर्थिक और सामाजिक परिषद् (Economic and Social Council)

 इसमें 54 सदस्य होते हैं जो महासभा द्वारा 3 वर्ष के लिये चुने जाते हैं ।  वह आर्थिक , सामाजिक ,सांस्कृतिक तथा मानवतावादी समस्याओं के लिए किये गए कार्यों की सूचना महासभा को देती है ।

 उद्देश्य

महासभा के सत्ताधिकार में संयुक्त राष्ट्र संघ के आर्थिक एवं सामाजिक कार्य – कलापों के लिये उत्तरदायी होना । अन्तर्राष्ट्रीय आर्थिक , सामाजिक , सांस्कृतिक , स्वास्थ्य संबंधी एवं शैक्षिक विषयों पर अध्ययन , प्रतिवेदन एवं अभिप्रस्ताव प्रस्तुत करना ।

इसे भी पढ़े : NPR full form in Hindi

जाति , लिंग , भाषा और धर्म का भेद – भाव किये बिना मानव अधिकारों एवं मौलिक स्वाधीनता के लिये सम्मान – भाव की अभिवृद्धि एवं सर्वत्र उनका पालन करना ।

आर्थिक एवं सामाजिक परिषद् की बैठकें वर्ष में दो बार होती है अप्रैल में न्यूयॉर्क में तथा जुलाई में जेनेवा में ।

न्यासी परिषद् (Trusteeship Council)

इस परिषद् के माध्यम से संयुक्त राष्ट्र का उन राष्ट्रों के प्रशासन एवं सुरक्षा से संबंधित दायित्व स्पष्ट होता है , जो द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद भी स्वतंत्र नहीं हो पाए ।  इसमें वर्तमान में 12 सदस्य हैं , जिनमें चार प्रबन्धकर्ता देश , तीन सुरक्षा परिषद् के स्थायी सदस्य होने के कारण स्थायी सदस्य और पाँच निर्वाचित सदस्य हैं ।

इसे भी पढ़े : SPG full form in hindi | SPG कमांडो गठन कब हुआ?

इसका प्रमुख कार्य प्रत्येक सदस्य देश की राजनीतिक , आर्थिक और सामाजिक उन्नति करना तथा उन्हें विकास की दिशा दिखाना है ।  अंतिम न्यास क्षेत्र पलाऊ द्वारा वर्ष 1994 में स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद न्यास परिषद् के कार्य लगभग समाप्त हो गए हैं ।

 अन्तर्राष्ट्रीय न्यायालय (International Court of Justice)

अन्तर्राष्ट्रीय न्यायालय संयुक्त राष्ट्र संघ का प्रधान न्यायिक अंग है । इसमें 15 न्यायाधीश होते हैं , जिनका निर्वाचन 9 वर्ष की अवधि के लिये महासभा और सुरक्षा परिषद् के सदस्य करते हैं ।  किसी भी सदस्य राष्ट्र से दो न्यायाधीश चुने जाते हैं ।

यदि सदस्य राष्ट्र कोई प्रतिवाद न्यायालय के समक्ष निर्णय के लिए सौंपता है तो इसके निर्णय को उसे मानना पड़ता है ।  महासभा और सुरक्षा परिषद् कानूनी प्रश्नों पर इससे परामर्श ले सकती है । सभी विवादों का फैसला न्यायाधीशों के बहुमत के आधार पर होता है । बराबर मत पर अध्यक्ष का मत लिया जाता है ।

इसे भी पढ़े : बिजली का आविष्कार किसने किया

न्यायालय के सामने लाये गये प्रश्नों पर उपस्थित न्यायाधीशों के बहुमत द्वारा निर्णय लिया जाता है ( कम से कम नौ सदस्य उपस्थित रहने चाहिये ) ।  वर्ष 1946 से अब तक अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय ने अनेक अंतर्राष्ट्रीय विवादों पर 71 निर्णय दिए हैं

मुख्य कार्यालय : हेग ( नीदरलैण्ड )

न्यायाधीश अपने में से ही एक अध्यक्ष तथा उपाध्यक्ष को तीन वर्ष के लिए चुनते हैं ।  न्यायालय की सरकारी भाषाएँ फ्रेंच तथा अंग्रेजी हैं ।

 सचिवालय (Secretariat)

यह संयुक्त राष्ट्र का प्रशासनिक अंग है । संयुक्त राष्ट्र संघ के नित्य प्रतिदिन के कार्यों को करने के लिए एक सचिवालय है जिसमें लगभग 10,000 कर्मचारी कार्य करते हैं । इसका सबसे बड़ा अधिकारी महासचिव होता है । महासचिव की नियुक्ति सुरक्षा परिषद् के अभिप्रस्ताव पर महासभा द्वारा 5 वर्ष के लिये होती है ।

महासचिव के कार्य :

यह संयुक्त राष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद् का ध्यान ऐसे विषयों की ओर दिलाता है , जिससे उसकी राय में विश्व – शान्ति के भंग होने की आशंका हो या सुरक्षा पर खतरे की सम्भावना हो । संयुक्त राष्ट्र संघ के कार्यों के सम्बन्ध में यह वार्षिक तथा पूरक प्रतिवेदन महासभा में प्रस्तुत करता है ।

इसे भी पढ़े : डीबीटी का फुल फॉर्म क्या होता है|DBT full form in Hindi

प्रधान कार्यालय न्यूयॉर्क

महासचिव बान की मून ( दक्षिण कोरिया ) महासचिव की सहायता अवर महासचिव और सहायक महासचिव करते हैं ।

संयुक्त राष्ट्र संघ(UNO) के महासचिव

नामदेशकार्यालय
ट्रिग्वे लीनार्वे1946-1952 ( स्वयं पद से इस्तीफा दिया )
डैग हैमरशोल्डस्वीडन
 यू थांटम्यांमार 1961-1971
कुर्त वाल्दीहीमऑस्ट्रिया 1972-1981
जेवियर पेरेज द कुइयारपेरू1982-1991
बुतरस बुतरस धालीमिस्र1992-1996
कोफी अन्नानघाना 1997-2006
बान की मूनद.कोरिया2007-2016
एण्टोनियो गुटेरेसपुर्तगाल1 जनवरी , 2017 से अब तक
uno full form in hindi

इसे भी पढ़े :

हमें उम्मीद है कि आप इस आर्टिकल में uno full form in hindi के बारे में पूरी विस्तार से जानकारी प्राप्त की होगी अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो आप हमें कमेंट जरूर करें एवं दोस्तों के साथ शेयर भी करें .

UNO full form in Hindi, UNO full form in English, UNO full form, UNO full form in hindi UNO full form in hindi UNO full form in hindi UNO full form in Hindi UNO full form in Hindi

2 thoughts on “UNO के अंग, कार्य, उदेश्य तथा UNO full form in hindi”

Leave a Comment